कोरोना: एक भय!

अश्क़ है ये,
आपसे फरमाता है।
श्रमिक-बंधुओं की ,
देख, दुर्दशा पछताता है।।

द्वंद है, या विष?
मन सोच सोच अकुलाता है।
लाकॅडाउन, के विस्तृत रूप मात्र से,
ही मन विचलित हो जाता है।।

समाधान यही है बस,
इसलिए, हर पग पथ पर बढ़ता जाता है।
कोरोना के बढ़ते कहर देख,
हर साँस भी भयभीत हो जाता है।।

संपूर्ण विश्व नतमस्तक पड़ा है,
भारत शान्तिदूत बन खड़ा हैं।
उनकी अपेक्षाओं स्वरूप,
स्वंय पीङित हो,
अपना हाथ बढ़ाता है।।

“प्रेरणा”

JNV Kolasi Katihar

Categories: For Navodayans, Hindi Poems, JNV Alumni, JNV Family, Prerna, Social Cause, Tributes | Tags: , , , | 2 Comments

Post navigation

2 thoughts on “कोरोना: एक भय!

  1. Dansil Soren

    Good writing.. May be some corrections required – अक्स.. In the first line first word.. May be.. Secondly.. संपूर्ण विश्व नतमस्तक *पड़ा* है.. भारत शांतिदूत बन *खड़ा* है.. By the way I appreciate it/her.. Keep stepping.. 🙂

    • prernasingh25

      Thanks for your motivation…Always appreciate your corrections required or any feedback.🙏

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: